Breaking News

नशा मुक्ति केंद्र से भागी लड़कियां बरामद, केंद्र संचालक पर लगाया दुष्कर्म करने का आरोप

नशा मुक्ति केंद्र से भागी लड़कियां बरामद, केंद्र संचालक पर लगाया दुष्कर्म करने का आरोप

-केंद्र संचालक व डायरेक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज, डायरेक्टर गिरफ्तार
देहरादून,  नशा मुक्ति केंद्र से भागी चार युवतियों को पुलिस ने बरामद कर लिया है। एक युवती ने संचालक पर उससे कई बार दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। जबकि, तीन युवतियों ने संचालक पर छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि जब डॉयरेक्टर से उन्होंने शिकायत की तो उसने उनके साथ मारपीट की। पुलिस ने संचालक व डायरेक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर महिला (डायरेक्टर) को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि, दुष्कर्म का आरोपी संचालक फरार हो गया है।
गुरुवार शाम को क्लेमेंटटाउन के प्रकृति विहार स्थित वॉक एंड विन सोवर लिविंग होम नाम के नशा मुक्ति केंद्र से चार युवतियां भाग गई थीं। युवतियों ने केंद्र का मुख्य द्वार बाहर से बंद कर दिया था। दो घंटे बाद पुलिस को इसकी सूचना दी गई तो उनकी खोजबीन शुरू हुई। पुलिस ने शुक्रवार दोपहर को एक युवती को बंजारावाला क्षेत्र से पकड़ लिया। इसके बाद पुलिस ने अन्य तीन लड़कियों को त्यागी रोड स्थित एक होटल से खोज निकाला।
इनमें से एक लड़की ने पुलिस को खुलकर आपबीती बताई। युवती से पता चला कि नशामुक्ति केंद्र में बहुत गलत काम होते थे। युवती ने पुलिस को बताया कि वह स्मैक की आदी हो गई थी। इसलिए उसके माता-पिता ने गत 20 मई को इस नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती करा दिया था। शुरूआत में सब ठीक-ठाक रहा, लेकिन कुछ दिनों बाद उसके पास केंद्र का संचालक विद्यादत्त रतूड़ी आया और उसे स्मैक देने का लालच दिया। उसने स्मैक के बदले शारीरिक संबंध बनाने की शर्त रखी। इसके बाद जबरदस्ती दुष्कर्म किया और उसे स्मैक का नशा दे दिया। आरोप है कि इसके बाद कई बार इसी तरह से उसने दुष्कर्म किया। इसकी शिकायत जब उसने यहां की डायरेक्टर विभा सिंह से की तो उसने डंडों से उसे पीटा। अन्य युवतियों ने भी पुलिस को बताया कि संचालक उनके साथ भी बहुत भद्दी तरह से छेड़छाड़ करता था। शिकायत करने पर विभा सिंह बुरी तरह मारती थी। युवतियों की शिकायत पर विद्यादत्त रतूड़ी व विभा सिंह के खिलाफ दुष्कर्म, मारपीट, गाली गलौच और आपराधिक षड़यंत्र का मुकदमा दर्ज किया गया है। इनमें से विभा सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। विद्यादत्त रतूड़ी की तलाश की जा रही है। पुलिस ने सभी पीड़िताओं का कोरोनेशन अस्पताल में मेडिकल कराया है। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उसे दो माह से माहवारी नहीं हुई है। ऐसे में उसके गर्भवती होने का भी अंदेशा है। शनिवार को मेडिकल पूरा नहीं हो पाया है। लिहाजा, रविवार को भी मेडिकल कराया जाएगा। इसके बाद ही पता चल सकेगा कि पीड़िता गर्भवती है या नहीं। पुलिस ने शनिवार को युवतियों के मजिस्ट्रेटी बयान भी दर्ज करा दिए हैं।

Rakesh Kumar Bhatt

https://www.shauryamail.in

Related post

error: Content is protected !!