Breaking News
Digiqole ad

टिहरी के पर्यटन स्थलों पर सात दिन तक स्वच्छता अभियान चलाएगा ट्रेकिंग दल

 टिहरी के पर्यटन स्थलों पर सात दिन तक स्वच्छता अभियान चलाएगा ट्रेकिंग दल
Digiqole ad

 

टिहरी के पर्यटन स्थलों पर सात दिन तक स्वच्छता अभियान चलाएगा ट्रेकिंग दल

 

जिलाधिकारी ने 25 सदस्यीय ट्रेकिंग दल को हरी झंडी दिखा कर किया रवाना

 

देहरादून। उत्तराखण्ड पर्यटन विभाग की ओर से आयोजित स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत 25 सदस्यीय ट्रेकिंग दल को टिहरी जिला अधिकारी इवा श्रीवास्तव ने घुत्तू-गंगी-खतलिंग ग्लेशियर के लिए बौराड़ी के गणेश चौराह से हरी झंड़ी दिखा कर रवाना किया। 25 सदस्यीय दल में 21 पुरूष और 4 महिलाएं शामिल हैं।

 

ट्रेकिंग दल घुत्तू-गंगी-खतलिंग में सात दिन तक विशेष स्वच्छता अभियान चलाएंगे। इसके साथ ही दल के सदस्य 28 सितंबर तक खतलिंग ग्लेशियर सहित महासर ताल और गंगी क्षेत्र में साहसिक पर्यटन की गतिविधियों का संचालित करेंगे। जिन्हें मास्टर ट्रेनर अनिल सकलानी सहित दो अन्य प्रशिक्षक प्रशिक्षण देंगे। खतलिंग ग्लेशियर उत्तराखंड के प्रमुख ग्लेशियर में शामिल है। दल के सदस्य इन पर्यटन स्थलों पर सफाई अभियान चलाने के साथ वहां आए पर्यटकों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करेंगे।

श्रीमती पूनम चंद, अपर निदेशक उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद ने बताया कि प्रदेश में पर्यटन, साहसिक पर्यटन और धार्मिक पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ाने के लिए विभाग की ओर से लगातार काम किया जा रहा है। उधर स्वच्छता पखवाड़े के तहत रुद्रप्रयाग में देवरिया ताल ट्रेक मेहखाना देवी में महिलाओं के एक दल ने मांगल गीत गाकर स्वच्छता के प्रति जागरूक किया। साथ ही ट्रेकिंग दल ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर वहां विशेष स्वच्छता अभियान भी चलाया। इससे पहले देहरादून के तीन पर्यटन स्थल झड़ीपानी ट्रेक, जॉर्ज एवरेस्ट परिसर और गुच्चुपानी क्षेत्र में स्वच्छता अभियान चलाया गया। ‘स्वच्छता पखवाड़ा’ कार्यक्रम के अंर्तगत तीनों पर्यटन स्थलों में छात्र-छात्राओं व गैर सरकार संगठनों के स्वयंसेवकों ने सफाई अभियान में बढ़ चढ़कर प्रतिभाग किया।

 

विभाग की ओर से 30 सितंबर तक चलने वाले स्वच्छता पखवाड़े में स्वच्छता और ठोस अपशिष्ट निपटान से संबंधित सर्वोत्तम तकनीकों के बारे में राज्य भर में होमस्टे मालिकों, होटल व्यवसायियों और स्थानी समुदायों को जागरूक किया जाएगा। इसके साथ ही देवभूमि उत्तराखंड को स्वच्छ बनाने के लिए उत्कृष्ट कार्य कर रहे होटल, गेस्ट हाउस, गैर सरकारी संगठनों, शहरी स्थानीय निकायों, रेस्तरां, होम स्टे और स्वयं सेवकों को सम्मानित किया जाएगा।

Rakesh Kumar Bhatt

http://www.shauryamail.in

Related post

error: Content is protected !!